• Twitter
  • Facebook
  • Google+
  • Instagram
  • Youtube

Friday, September 19, 2008

Something I liked

दोस्त बन कर भी नहीं साथ निभाने वाला
वही अंदाज़ है ज़ालिम का ज़माने वाला

क्या कहें कितने मरासिम थे हमारे इस से
वो जो एक शख्स है मुह फेर के जाने वाला

मुंतज़िर किस का हूँ टूटी हुई देहलीज़ पे मैं
कौन आएगा यहाँ कौन है आने वाला

मैं ने देखा है बहारों में चमन को जलते
है कोई ख्वाब की ताबीर बताने वाला?

तुम तकल्लुफ को भी इखलास समझते हो 'फ़राज़'
दोस्त होता नही हर हाथ मिलाने वाला

3 comments:

  1. aare bhatee-je ye video main demo likha kaun aa raha hai? dubai ye behj kar crack mang-wa-oun kya?

    ReplyDelete
  2. hehe.
    Welcome to my blog, dude.
    I was surprised for your long discommunication.

    Yeah I need it's crack. I didn't find it. the plugins is: "adorage" (plugin for Windows Movie Maker)

    and thanx for comments.

    ReplyDelete

Contact

Get in touch with me


Contact Form

Name

Email *

Message *

Adress/Street

12 Street West Victoria 1234 Australia

Phone number

+(12) 3456 789

Website

www.johnsmith.com