Saturday, May 2, 2009

होके मजबूर मुझे उसने भुलाया होगा

होके मजबूर मुझे उसने भुलाया होगा
ज़हर चुपके से दावा जानके खाया होगा

दिल ने ऐसे भी कुछ अफ़साने सुनाए होंगे
अश्क़ आँखों ने पिए और ना बहाए होंगे
बंद कमरे में जो खत मेरे जलाए होंगे
एक एक हर्फ जबिन पर उभर आया होगा
होके मजबूर मुझे उसने भुलाया होगा

उसने घबराके नज़र लाख बचाई होगी
दिल की लुटती हुई दुनिया नज़र आई होगी
मेज़ से जब मेरी तस्वीर हटायी होगी
हर तरफ मुझको तडप्ता हुआ पाया होगा
होके मजबूर मुझे उसने भुलाया होगा

छेड की बात पे अरमान मचल आए होंगे
गम दिखावे की हँसी में उबल आए होंगे
नाम पर मेरे जब आँसू निकल आए होंगे
सर ना काँधे से सहेली के उठाया होगा
होके मजबूर मुझे उसने भुलाया होगा

ज़ुलफ ज़िद करके किसी ने जो बनाई होगी
और भी गम की घटा मुखड़े पे छायी होगी
बिजली नज़रों ने कई दिन ना गिराई होगी
रंग चेहरे पे कई रोज़ ना आया होगा
होके मजबूर मुझे उसने भुलाया होगा
ज़हर चुपके से दावा जानके खाया होगा

Teefa in Trouble | Movie Review

Teefa in trouble has been the biggest opener in Pakistani cinema so far, as quoted in Wikipedia. Although my likings for movie doesn’t d...